डायबिटिक रेटिनोपैथी और इंट्राविट्रियल इंजेक्शन

डॉ. अमित गुप्ता, एमडी, एफएसीएस, नेत्र विशेषज्ञ, डायबिटिक रेटिनोपैथी के कारण और उसके इलाज के बारे में बताते हुए।

Loading the player...

डॉ. अमित गुप्ता, एमडी, एफएसीएस, नेत्र विशेषज्ञ, डायबिटिक रेटिनोपैथी के कारण और उसके इलाज के बारे में बताते हुए।
2432 Views
Share
Video transcript

Duration: 1:46 डॉ. अमित गुप्ता, एमडी

हाई शुगर की वजह से, आपकी शुगर जब ऊंची होती है, डायबिटिक रेटिनोपैथी होती है आँखों में। इसका मतलब है कि पर्दे में सूजन, पर्दे में खून, और धीरे-धीरे रौशनी कट सकती है, नई नसें उग सकती हैं अंदर, और ये नई नसें अच्छी नहीं हैं क्योंकि धीरे-धीरे ये भी टूट के खून हो जाएगा आँख के अंदर, अचानक दिखाई नहीं देगा या ये बड़ी हो कर पर्दे को ही फाड़ देंगी जिससे आपको कुछ नहीं दिखाई देगा। अगर इसको ध्यान ना दें, बाद में इसको ठीक करना ज़्यादा मुश्किल हो जाता है। तो सबसे अच्छा है कि आप पहले से ही, शुरू से ही, एग्ज़ामिन करवा लें।

कई बार, आपकी डायबिटिक रेटिनोपैथी जो होती है आँखों में पर्दे में जब सूजन होती है इंजेक्शन की ज़रूरत पड़ेगी। आपका डॉक्टर कहेगा कि इंजेक्शन की ज़रूरत है। आजकल के ज़माने में ये सबसे अच्छा ट्रीटमेंट है आँखों के लिए, क्योंकि पर्दे में जब आपके सूजन है इस दवाई से वो काफी सही हो सकती है। हो सकता है आपकी रौशनी वापिस आ जाए इसकी वजह से। उम्मीद तो है, क्योंकि बहुत लोगों को फायदा हो चुका है इससे। और सबसे बड़ी बात है कि और रौशनी नहीं कटेगी इसके बाद। ये दवाएं इंजेक्ट करी जाती हैं पिछले 15 साल से। और जब से ये आई हैं बहुत लोगों की विज़न रौशनी आँखों में बच गई है। अब वो लोग काम कर सकते हैं। और इसके बिना वो काम करने लायक नहीं रहते क्योंकि उनको कुछ दिखाई नहीं दे रहा था।

अगर आपको इसके बारे में और जानकारी करनी है तब आई-डॉक्टर से बात करें।

Presenter: Dr. Amit Gupta, Ophthalmologist, Scarborough, ON

Local Practitioners: Ophthalmologist

This content is for informational purposes only, and is not intended to be a substitute for professional medical advice, diagnosis or treatment. Always seek the advice of your physician or other qualified healthcare professional with any questions you may have regarding a medical condition.